साल में दो बार की जा सकती है परवल की खेती…

जलवायुपरवल की खेती साल में दो बार की जाती है। परवल की खेती के लिए गर्म जलवायु सबसे उपयुक्त है। इसे जून में तथा अगस्त में बोई जाती है। वहीं नदियों के किनारे अक्टूबर-नवंबर में परवल की रोपाई की जा…

उद्यानिकी कृषक बनकर संपन्न हुआ ये किसान

रतलाम जिले में किसानों द्वारा हाईटेक एवं आधुनिक तरीकों से खेती करके सफलता के नए आयाम स्थापित किए जा रहे हैं और समृद्धि की नई ऊंचाइयां हासिल की जा रही है। जिले के ग्राम कुशलगढ़ के विनोद पाटीदार भी ऐसे…

जैविक खेती से बढ़ी आमदनी…दी देशी खाद बनाने की जानकारी….

हरीश चंद्र तिवारी ने बताया कि वे डॉक्टर सुभाष पालेकर की पद्धति जो जीरो बजट पर आधारित हैं , को अपना कर खेती करते है। उन्होंने बताया कि एक एकड़ के लिए देशी खाद बनाने के लिए देशी गाय का…

जिमीकंद की खेती…

जिमीकंद की खेती किसानों के लिए काफी फायदेमंद होती है। कम लागत में इसके ज्यादा फायदे मिलते हैं। जिमीकंद का उपयोग यूं तो सब्जी और आचार के लिए होता है, लेकिन आपको जानकार ये आश्चर्य होगा कि इसमें काफी मात्रा…

कपड़ा बुनाई के क्षेत्र में मौजूद है अपार संभावनाएं…

कपड़ा बुनाई कला एक ऐसा कार्य क्षेत्र है, जिसमें स्वरोजगार की असीम सम्भावनाएं मौजूद है। यूं तो जिले के आस-पास के कई गांव में बुनकर व्यवसाय से कई परिवार जुड़े हुए हैं जिन्हें यह वृत्ति पैतृक विरासत में मिली है…

मील का पत्थर साबित हो रही है मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना

मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना किसानों के लिये मील का पत्थर साबित हो रहा है। किसानों के खाते में प्रतिवर्ष दो बार दो-दो हजार रूपये के मान से कुल 4 हजार रूपये सीधे पहुंच जाते हैं जो उनकी खेती किसानी के…

डेयरी उद्योग से बदली जिंदगी

महिला स्वसहायता समूह के पैसे से शुरु हुए डेयरी उद्योग ने जिले के ग्राम सीतापुर की सुनीता को बड़े दुग्ध उत्पादकों की श्रेणी में ला खड़ा किया है। उनके परिवार की अर्थव्यवस्था में आए सुधारों ने पशुपालक सुनीता के परिवार…

मनरेगा ने दिलाया 3 हजार दिव्यांगजनों को रोजगार

जीवन में अगर हौसला हो और उस पर कुछ करने का मौका मिले तो शारीरिक कमजोरी भी कभी आड़े नहीं आती। हौसलों की उड़ान इतनी मजबूत होती है कि विपरीत परिस्थितियों में भी आगे बढऩे की राह मिल ही जाती…

लाभदायक खेती के लिए आधुनिक यंत्रों का उपयोग समय की मांग

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय परिसर में मंगलवार को एक दिवसीय तकनीकी एवं यंत्र प्रदर्शन मेला का आयोजन किया गया। तकनीकी एवं यंत्र प्रदर्शन मेले में खेत की जोताई से लेकर फसलों की कटाई एवं गहाई तक में उपयोग होने वाले…

हल्के बादल वाले मौसम में चना में हो सकता है इल्लियों का प्रकोप…ऐसे रखें सावधानियां…

कृषि संचालनालय के कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को मौसम आधारित कृषि सलाह दी है। कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों के लिए सलाह दी हैं कि आने वाले दिनों में हल्के बादल छाए रहने एवं हल्की वर्षा होने की संभावना को देखते…