Posted inNews

खरीफ वर्ष : नए किसानों का पंजीयन शुरू..ये है पूरी प्रक्रिया…

वर्ष 2019-20 में धान खरीदी के लिए पंजीकृत छत्तीसगढ़ के किसानों का डेटा अद्यतन करने का कार्य 17 अगस्त से शुरू हो गया है, जो 31 अक्टूबर 2020 तक चलेगा। गत खरीफ वर्ष में पंजीकृत किसानों को पुन: किसान पंजीयन के लिए समिति में आने की आवश्यकता नहीं है। यदि पूर्व में पंजीकृत किसान किसी […]

Posted inAdvice

सोयाबीन में लगने वाले ‘यलो मोजेक’ से बचाव के उपाय…

मप्र के कई स्थानों में सोयाबीन की फसलों में यलो मोजक नामक कीट लगने की सूचना मिल रही है। इसे लेकर  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कृषि विभाग इस संबंध में तुरंत कार्रवाई करते हुए फसलों की इससे सुरक्षा के हरसंभव उपाय करें, जिससे किसानों की फसलों को नुकसान न हो।सोयाबीन कृषकों के […]

Posted inAdvice

जैविक खाद के उपयोग लहलहाने लगी सब्जियों की खेती…

कबीरधाम जिले के सिंगारपुर के चेतन वर्मा मनरेगा के अंतर्गत बाड़ी विकास योजना से अपनी बाड़ी विकसित कर सब्जी उत्पादन कर रहे हैं। जैविक खाद का उपयोग कर वे अपनी बाड़ी में भिन्डी, मिर्ची, लौकी, बैगन, धनिया, टमाटर, कुंदरू, लाल भाजी, गिल्की, बरबट्टी और पालक भाजी की पैदावार ले रहे हैं। वे पास के ही […]

Posted inAdvice

अरहर की फसलों में होने वाले कीट प्रकोप और उपचार…

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि अरहर की खेती के लिए बलुई दोमट और दोमट भूमि अच्छी होती है। इसके अलावा जल निकासी की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए तथा हल्के ढालू खेत अरहर के लिए सर्वोत्तम होते हैं। ध्यान रहें लवणीय तथा क्षारीय भूमि में इसकी खेती सफलतापूर्वक नहीं की जा सकती है। अरहर […]

Posted inAdvice

उप्र : कृषि उत्पादन में बीजो का खास महत्व…कैसे करें बीजों का चयन…

खेती-किसानी में प्राय: हर चीजों का खास महत्व होता है। खेत का आकार, सिंचाई, मिट्टी, बीज आदि। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण होता है बीजों का चुनाव। यदि आपने उच्च गुणवत्ता के बीजों का चयन नहीं किया, तो जाहिर सी बात है आपको उत्पादन आपके अनुकूल नहीं मिल पाएगा। फिर किसी अन्य को दोष के बचाए स्वयं […]

Posted inNews

उप्र : गन्ना उत्पादकों किसानों को बड़ी राहत…केंद्र सरकार ने बढ़ाया एफआरपी…उत्तरप्रदेश में होता है सबसे ज्यादा गन्ना…

गन्ना उत्पादकों किसानों को केंद्र सरकार ने बड़ी राहत दी है। इसके तहत अब गन्ने का 2020-21 (अक्तूबर-सितंबर) मार्केटिंग वर्ष के लिए एफआरपी दाम 10 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाने को मंजूरी दी गई। आपको बता दें कि यह गन्ने का न्यूनतम मूल्य होता है, जिसे चीनी मिलों को गन्ना उत्पादक किसानों को भुगतान करना होता […]

Posted inAdvice

दलहनी फसलें प्रोटीन का अच्छा स्रोत…ऐसे करें खेती तो मिलेगा भरपूर उत्पादन

दलहनी फसलें प्रोटीन का अच्छा स्रोत होती है। इसलिए इसकी खेती को काफी महत्व दिया जाता है। दलहनी फसलों में मुख्यत: अरहर, चना, मटर, मसूर और मूंग आदि शामिल हैं। इसमें में यदि हम बात करें तो अरहर की दाल का  उपयोग बहुतायत में किया जाता है। इसलिए यह किसानों के लिए फायदेमंद है। कहा […]

Posted inAdvice

खेती-किसानी में पशुओं का है खास महत्व…जानें पशुपालन का महत्व और उपयोगिता…

आदिकाल से ही पशु मनुष्य के लिए बहुउपयोगी साबित हो रहा है। खेती-किसानी में तो पशुओं की उपयोगिता किसी से छिपी नहीं है। खासकर, बैल और भैंस आज भी किसान के साथ-साथ अपनी मेहनत से फसल उत्पादन में  बराबर का योगदान देते हैं, तो वहीं गौमाता कही जाने वाली गाय का दूध सर्वोत्तम माना जाता […]

Posted inNews

मिट्टी परीक्षण के बाद ऐसे बढ़ा गेंहू का उत्पादन

राजगढ़ जिले के जीरापुर विकास खण्ड के ग्राम सुन्दरपुरा निवासी मांगीलाल कवंरलाल बताते है कि लगभग 02 हेक्टेयर जमीन जो उत्पादन की दृष्टि से लगभग बहुत ही कमजोर हो गई थी। कुल उत्पादन का 50-60 प्रतिशत तक ही मिल पाता था। कभी फसल के पीला पड़कर खत्म हो जाना कभी फसल अच्छी होने पर भी […]

Posted inNews

पिछले खरीफ फसल में पंजीकृत किसानों को इस वर्ष पंजीयन की आवश्यकता नहीं

धान और मक्का खरीदी के लिए 2019-20 में पंजीकृत किसानों को वर्ष 2020-21 के लिए पंजीकृत माना जाएगा छत्तीसगढ़ शासन द्वारा धान और मक्का खरीदी के लिए खरीफ वर्ष 2019-20 में पंजीकृत किसानों को विपणन वर्ष 2020-21 के लिए मान्य करने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए विगत खरीफ वर्ष 2019-20 मे पंजीकृत किसानों […]