ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती दे रहे गोठान

छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी सुराजी योजना के नरवा, गरूवा, घुरूवा बारी अन्तर्गत सुकमा जिले में निर्मित गोठानों में मल्टीएक्टीविटी केन्द्र के रूप में विकसित किए जा रहे हैं। जिससे यहां की महिला समूहों को रोजगार के नए अवसर के साथ ही अपनी आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ करने का मौका भी मिल रहा है। सभी गोठानों में पशुओं के लिए चारागाह, वर्मी बेड, वर्मी कम्पोस्ट टंकी का निर्माण किया गया है। जिसमें महिला समूहों द्वारा केंचुआं के माध्यम से जैविक वर्मी खाद तैयार किया जा रहा है। इसके साथ ही गोठानों में बारी योजना के अन्तर्गत विभिन्न प्रकार के साग-सब्जियों का उत्पादन भी महिला समूहों के द्वारा किया जा रहा है। जिसे वे स्थानीय बाजार में विक्रय कर अतिरिक्त आर्थिक लाभ अर्जित कर रही है।

कलेक्टर विनीत नन्दनवार एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी नूतन कुमार कंवर के निर्देशन में जिले के समस्त गोठानों में बारी योजना के तहत् साग भाजी का उत्पादन किया जा रहा है। गोठान में अलग-अलग स्थानों पर बारी बनाकर अनके साग सब्जियां लगाई गई हैं। जिसमें पालक भाजी, लाल भाजी, खीरा, बरबट्टी, भिण्डी, टमाटर, बैंगन, करेला, धनिया, मिर्ची लौकी, बीन्स, मूली, गांठ गोभी इत्यादि उगाई जा रही है। समूह की महिलाएं पूरी लगन से इन साग सब्जियों की देखभाल में लगी रहती है। गोठान में ही निर्मित वर्मीखाद का उपयोग सब्जियों में किया जा रहा है। छिन्दगढ़ विकासखण्ड के विभिन्न गोठानों से स्व-सहायता समूहों की महिलाओं ने सब्जियों का विक्रय कर कुल 20 हजार 990 रुपए प्राप्त किया। जिनमें पाकेला गोठान में 4 हजार 720, चिपुरपाल (चिकारास) गोठान में 6 हजार 360, राजामुण्डा गोठान में 3 हजार 620, किकिरपाल गोठान में 3 हजार 530, रोकेल गोठान में 1500, कवासीरास में 1260 रुपए की विक्रय की गई सब्जियों के राशि शामिल है।

इसी प्रकार सुकमा विकासखण्ड के विभिन्न गोठानों से स्व-सहायता समूहों की महिलाओं ने सब्जियों का विक्रय कर कुल 44 हजार 330 रुपए प्राप्त किया। जिनमें रामपुरम गोठान में 20 हजार 640, केरलापाल (मोटगुड़ा) गोठान में 1720, नीलावरम गोठान में 3 हजार 40, रामाराम गोठान में 9 हजार 410, पातर सुकमा (रामाराम) गोठान में 3 हजार 790, गोलाबेकुर गोठान में 5 हजार 130 और भेलवापाल गोठान में 600 रुपए की विक्रय की गई सब्जियों की राशि शामिल है। वहीं कोण्टा विकासखण्ड के विभिन्न गोठानों से स्व-सहायता समूहों की महिलाओं ने सब्जियों का विक्रय कर कुल 12 हजार 690 रुपए प्राप्त किया। जिनमें दुब्बाटोटा -1 गोठान में 4 हजार, नागलगुण्डा गोठान में 6 हजार 200, एर्राबोर गोठान में 1010, चिंतलनार गोठान में 650, ढोण्ढरा गोठान में 570, दरभागुड़ा गोठान में 200 और गोरगुण्डा गोठान में 60 रुपए की सब्जियां विक्रय की गई है।