काजू की खेती और मुख्य किस्में…

काजू में पोटैशियम, कॉपर, जिंक, सीलियम, आयरन, मैगनीशियम आदि पाए जाते हैं। काजू से हड्डी मजबूत करने, दिल की बीमारियों में, याददाश्त तेज करने में और ब्लड प्रेशर को नियंत्रण करने में मदद मिलती है। इसके अलावा मिठाईयों में यदि काजू का इस्तेमाल हो तो उसकी कीमत कई गुना बढ़ जाती है। तो चलिए आज हम बात करते हैं काजू की व्यापारिक खेती के बारे में।

किस्में
– काजू की प्रमुख किस्में टी.-40 , बी.पी.पी.-1, बी.पी.पी.-2, वेगुरला-4, उल्लाल-2, उल्लाल-4 आदि हैं।

जलवायु
– काजू गर्म जलवायु की फसल है। इसलिए यह उष्णकटिबन्धीय क्षेत्रों में बहुतायत में होता है। माना जाता है कि 700 मी. ऊंची जगह जहां तापमान 200 सें.ग्रे. से ज्यादा होता है वहां काजू की खेती अच्छी होती है।

भूमि
– काजू की खेती के लिए किसी खास प्रकार की मिट्टी की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन यदि अच्छा उत्पादन चाहिए तो समुद्र तटीय वाले लाल और लेटराइट मिट्टी उपयुक्त माना गया है।

तैयारी
– काजू के पौधे को साफ्ट वुड ग्राफ्टिंग या फिर भेंट कलम के जैसे तैयार किया जा सकता है। मई-जुलाई का महीना पौधा तैयार करने के लिए सबसे सही होता है।

बोआई का समय
– काजू की खेती का सबसे अच्छा समय वर्षा का समय होता है।

तरीका
– काजू के पौधे को 700-800 सेंटीमीटर के दूरी पर वर्गाकार तरीके से लगाना चाहिए। गड्ढे के पास पानी जमा न हो और दो पौधे के बीच की दुरी 4 गुणा 4 या 5 गुणा 5 मीटर हो।

काजू के पौधों में कीट नियंत्रण और रोग नियंत्रण के लिए समय-समय पर कृषि विशेषज्ञों से सलाह लेकर उचित देखभाल करनी चाहिए, नहीं तो फसल प्रभावित हो सकती है। काजू के फल को तोड़ा नहीं जाता, बल्कि सिर्फ गिरे हुए फल को जमा किया जाता है। फिर इसे धूप में सुखा कर बोरों में भरकर रखा जाता है।